दिल्ली में ई-रिक्शा की राह में कानूनी रोड़ा बरकरार

अब तक 21 हजार लोगों ने पंजीकरण के लिए आवेदन किए हैं। सिर्फ स्थायी लाइसेंस हासिल कर लेना ही समस्या का समाधान नहीं है।