युवाओं में धूम्रपान की वजह से दिमाग, फेफड़े, गुर्दे क्षतिग्रस्त

विश्व स्वस्थ्य संगठन (डब्लयूएचओ) के मुताबिक, एक ही उम्र वर्ग के युवा धूम्रपान करने वालों के दिल की धड़कन धूम्रपान न करने वालों से 2-3 बार ज्यादा धड़कती है। तंबाकू में मौजूद निकोटीन में लत लगाने की क्षमता होती है और धूम्रपान से कुछ समय बाद व्यक्ति का रक्तचाप और धड़कन की रफ्तार बढ़ जाती है। इससे दिल और धमनियों पर दबाव पड़ता है और दिल का दौरा पड़ने की आशंका बढ़ जाती है।