हाथ का हुनर बना थारू महिलाओं की आत्मनिर्भरता का जरिया

उत्तर प्रदेश के लखीमपुर-खीरी के पलिया ब्लॉक के जंगलों में की महिलाओं की कसीदाकारी को पंख लग गए हैं। कभी जंगलांे से जलौनी लकड़ी बेचकर परिवार का भरण पोषण करने वाली यहां की महिलाओं ने हाथों के हुनर को आत्मनिर्भरता का जरिया बना लिया है। इन्होंने दरी कारपेट, पावदान, फाइल कवर आदि बनाना शुरू कर दिया है। एक हजार से ज्यादा महिलाओं को समूहों से जोड़कर उन्हें प्रशिक्षण देने के बाद सिलाई मशीन बांटी गई है।