सही समय पर आये विचार को कोई नहीं रोक सकता। शुभ्रा गुप्ता, बंगलौर